Bounce Rate क्या होता है और इसे कैसे कम करे।

 

 

दोस्तो अगर आपका ब्लॉग है तो यह आपको मालूम होगा के Bounce Rate क्या है और इसे कम करना  क्यों जरूरी है। अगर आपको नहीं मालूम के Bounce Rate  क्या होता है। तो आप ज़्यादा ना सोचे क्यों मै आपको सब बताऊंगा ब्लॉगिंग के क्षेत्र में bounce Rate kya hota hai। bounce Rate ज़्यादा होने का मतलब होता है। वह साइट यूजर के लिए अच्छी नहीं है।


अगर आप अपने ब्लॉग की Rank को Alexa में देखते होंगे तो Global Rank, Page per Visiter, World Ranking, India Ranking, को check करते होंगे। और इस के साथ bounce rate भी देखते होंगे। हम अपने ब्लॉग से income करने के लिए अपने साइट का bounce Rate कैसे कम करें। तो चलिए सबसे पहले  जान लेते है यह Bounce Rate क्या है। 



Bounce Rate क्या होता है?


Bounce Rate क्या है। अब कोई visiter किसी ब्लॉग पेज को पढ़ ने लिए उस लिंक पर क्लिक करता है। और वह उस साइट पर बिना 1 सेकंड  रुके। उस वेबसाइट को छोड़ कर वापिस चला जाता है। तो इसे ही bounce Rate कहा जाता है। Bounce Rate उन visitors का percentage होता है। जो की आपके page पे आते हैं और कोई दुसरे page पे click किये बिना ही वापस चले जाते हैं। और इससे Google को यह massage जाता है। के यह साइट विजिटर के लिए अच्छी नहीं है। और google उस website की Ranking को  Down कर देता है।Bounce Rate को‌ कैसे maintain करें।


 अक्सर करके blogger इस चीज पे ध्यान नहीं देते। अगर आप अपनी blog या site के Search Performance को बढ़ाने की पूरी कोशिश कर रहे है. और हो नहीं रहा है। तो इसके पीछे छुपा हुआ राज है। सबसे पहले Bounce Rate को कम करे। अब मानलो आपने। अपने वेबसाइट का Bounce Rate check  किया। और आपके साइट का बाउंस रेट है। 35%  इस का यह मतलब है के आपके साइट पर कुल मिला के जो  विजिटर आ रहे है। उनमें से 35% आपकी साइट पर ज़्यादा देर तक नहीं टिक रहे। अब जानते है। वेबसाइट के लिए Bounce Rate  कितना होना चाहिए।


 

वेबसाइट का Bounce Rate  कितना होना चाहिए


यहा तक आप जान गए होंगे के। Bounce Rate क्या है। अब हम देखेंगे के website का Bounce Rate कितना होना अच्छा है। जिससे हमें ये पता चल जायेगा कोई साइट के लिए Bounce Rate  कितनी अच्छी या कितनी बुरी है । आपके साइट के लिए कौनसा अच्छा और कौनसा बेकार है। यदी कोई साइट का Bounce Rate 1 से 10% के अंदर रहता है। तो वह दुनिया के कामियाब websites के list में आती है। और अगर साइट का Bounce Rate 10% से 40% तक है ये भी अच्छा है।


आपकी साइट का Bounce Rate अगर 40% से 70% के बीच में है तो यह उतनी अच्छी नहीं है लेकिन काम चलाऊ है। लगभग सारे ही वेबसाइट का Bounce Rate इन के बीच में होता है। और जिस वेबसाइट का Bounce Rate 70% से भी ऊपर है। वह सबसे खराब site है। उन्हें अपनी site पर बहुत काम करने की जरूरत है।  अब आपके मन में यह सवाल आया होंगा। क्या सभी वेबसाइट के bounce rate समान होते हैं। इसका simple सा जवाब है नहीं।  नीचे हमने कुछ bounce Rate के  आंकड़े बताए है।


• Content websites-  40-60%
• Retail business websites – 20-40%
• Lead generate websites- 30-50%
• services provider websites- 10-30%
• Blogs- 70-98%
• Landing Pages- 70-90%


 

कौन सी गलतियों से ब्लॉग या वेबसाइट का Bounce Rate ज़्यादा हो जाता है


1.Traffic पाने के लिए गलत keywords पर rank करना।
2. आप की website का design बेकार होना।
3. आपके साइट के contents ख़राब होना।
4. गलत जगह Internal link करना।
5. आपके Website का Loading time ज्यादा होना।
5. वेबसाइट पर Quality Content ना होना की वजह से.
6. आपका साइट  Single Page  का होना।
7. आपके Content का Heading visitor friendly ना होना।
8.  Content की Formating सही से  ना करना।



Bounce Rate को कैसे कम करें?


bounce rate को कैसे कम करें। अब मै आपको बताऊंगा Bounce Rate को कम करने के क्या तरीके है। 


1. आपका Mobile Friendly Blog होना चाहिए

अगर आप को blogging की field में succes पाना है। तो सबसे पहले आपको अपने ब्लॉग को mobile friendly बनाना पड़ेगा। internet पर कुल मिलाकर जो विजिटर आते है उनमें से 80% लोग ऎसे होते है। जो मोबाइल से visit देख रहे होते है। अब येसे में आपका साइट मोबाइल फ्रेंडली नहीं होगा। तो वह उस ब्लॉग को read करना पसंद नहीं करता। और वह  ब्लॉग को छोड़ कर चले जाएगा । जिससे हमारे साइट का Bounce Rate बढ़ जाता है। आप अपने ब्लॉग के लिए Mobile friendly Theme  इस्तेमाल करे।


2. अपने site पर Quality  Content लिखे

मै हमेशा दोस्तो Quality Content की बात करता हूं।क्यों के "Content is Tha King" होता है। किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के लिए। Content से ही आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर Unique Visiter को  साइट लाते है। और आपका Content बड़ा long और helpful रहा तो वह उस आर्टिकल को बहुत ध्यान से पढ़ता है। उस ब्लॉग में वह समय expand करता है।  जिस से आप के ब्लॉग या वेबसाइट का Bounce Rate कम होता है। एक बात आप Note करके रखे। Content का size 500 से 1000 Word रखें। और Simple भाषा का इस्तेमाल करें। जिस्से Visitor को जल्दी से समझ में आये। आप क्या लिखे हो विजिटर का आपके site के उपर भोरोसा बढेगा।  दोस्तों अगर आप Quality Content देंगे। थोड़ा वक्त लगेगा लेकिन Visitor अच्छे आएंगे। और आपके site का Bounce rate भी  कम हो जाएगा।

3. अपनी webSite का Design visiter friendly  बनाए।

दोस्तों जो चीज़ हमें दिखने में अच्छी लगती है। हम उसके तरफ attract हो जाते हैं।  वैसे ही आपकी website और blog का है। जब कोई विजिटर आप के साइट में Enter करे। तो हर चीज उसे proper दिखनी चाहिए। जैसे आपकी Theme, Theme Background, Top Navigation Menu, Theme Colors, Font Color, Text Size, इन का Proper USE करें। आप इनमें  text size और font color, के इस्तेमाल का खास ध्यान रखे। जैसे आप अगर अपने अपने ब्लॉग के text का color लाल‌ Red कर दोगे तो यह विजिटर के आंखो को प्रभावित करेगा। और आंखो पर चश्मा भी लग सकता है। और text size भी आपको Defult रखनी है। कहने का मतलब के आपको विजिटर का पूरा पूरा खयाल रखना है। के उसे कोई बात की दिक्कत ना हो। 


4. साइट का Page Load Time कम करें।

Bounce Rate को कम करना है। इस में एक factor यह भी है। Website Loading Time, एक सर्वे में यह पाया गया है। के 83% विजिटर कोई साइट को  opan होने में 5 Second तक इंतजार करते है।इस बाद वह साइट को छोड़ देते है। आपके साइट का page load time ज्यादा है। इसका मतलब ये हुआ, आते हुए visitors को blog तक पहुँचने से पहले माना कर देना। Blogging की दुनिया में आपको हर एक चीज पे काम करना पड़ेगा। जो हमारी साइट के लिए अच्छा और बेहतर हो सकता है। Page Load increase करने के लिए हम  क्या करे। आपको अपने पोस्ट में limited image का USE करे। Custom java script अपने blog में कम से कम इस्तेमाल करे। इस से blog loading time कम होगा। आपकी साइट खुलने में कितना समय लेती है।


1 second से कम मतलब- Perfect है.1 second से 3 Second मत्लत- Above average है3 second से 7 second मतलब-  Average7 से ज्यादा मतलब- Very poor

आपको अपनी साइट visiter friendly बनाना है। तो   अपनी साइट का Page Load, Perfect या फिर Above Average रखें।


5. Internal Link दुसरे Page में खुलना चाहिए.

अगर आप अपनी site में internal link डालते हो और लिंक किसी दूसरे पेज में नही खुलते है तो इस भी आपके साइट का Bounce Rate बढता है।



निष्कर्ष


मुझे उम्मीद है आपको हमारा यह आर्टिकल Bounce Rate  क्या है। और इसे कैसे कम करें। पसंद आया होंगा  अगर आपके मन में कोई भी सवाल हो तो प्लीज़ नीचे दिए। कॉमेंट box में comment  करें। हम जल्द से जल्द उसका reply कर देंगे। और इस  पोस्ट को आप अपने Facebook Twitter account पर share करें। ब्लॉगिंग SEO ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं। इस topic पर पोस्ट पाने के लिए  हमसे फेसबुक Group पर जुड़े।

No comments:

Powered by Blogger.